मुझे क्या ख़ाक गिरायेगा तू मार कर ठोकर..

मुझे क्या ख़ाक गिरायेगा तू 

मुझे क्या ख़ाक गिरायेगा तू मार कर ठोकर,
मैं ज़मीन पर लेटा महज तेरे लिए…II
-बम्भू

Leave a Reply

×
×

Cart