Hindi Shayari/हिंदी शायरी

कौन जाने कल क्या होगा

कौन जाने कल क्या होगा,
वो जलेगा या तू दफ़न होगा,
मगर यकीं से कहता हूँ,
शहर को आग लगाने वालो,
बराते मौत में तेरे साथ सोने वाला,
“तेरा आका” न “हमसफ़र” होगा.
— बम्भू

वैसे तो मैं खुश हूँ …

अब क्या ही पूछते हो मेरे में जिन्दगी के बारे में , बस चलती रहे ये भी तेरी मेहरबानी होगी..II

-fb.com/jindgi4jindgi

Leave a Reply

×
×

Cart